आसपा ने किया संघर्ष करने वाले अभिभावकों का सम्मान

Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

ऑल स्कूल पेरेन्ट्स एशोशियशन ने ऐसे पेरेन्ट्स का सम्मान किया जिन्होंने स्कूलों की मनमानी के ख़िलाफ़ संघर्ष किया।

कार्यक्रम में मुख्यातिथि के रूप में बोलते हुए निगम पार्षद हिमांशु लव ने कहा कि पेरेन्ट्स सम्मान समारोह कार्यक्रम अपने आप में नई पहल है। ऐसे पेरेन्ट्स के बारे में जानकर बाकी पेरेन्ट्स में भी स्कूलों की मनमानी के ख़िलाफ़ आवाज उठाने का जज़्बा पैदा होगा।
बसपा नेता सत्यपाल चौधरी ने कहा कि प्रदेश सरकार ने जो कानून बनाया है। वो केवल पेरेन्ट्स के संघर्ष के आगे झुक कर बनाया है। संघर्ष को आगे भी जारी रखने की जरुरत है। हमारा अंतिम उधेश्य देश मे समान शिक्षा नीति लागू कराने है।जिसके लिए हम खुद पेरेन्ट्स के साथ कंधे से कंधा मिलाकर लड़ेंगे।
युवा जाट समाज के जिला अध्यक्ष अरुण चौधरी भुल्लन ने कहा कि अभी भी पेरेन्ट्स को जागरूक होने की जरूरत है। उन्हें मालूम होना चाहिए, सरकारी विभागों की तरह ही बोर्ड लगे होने चाहिए जिन पर स्कूलों तमाम विभागों से मिली एनओसी लिखी होनी चाहिए।
गाजियाबाद लोक परिषद के कोषाध्यक्ष वेद प्रकाश गर्ग ने कहा कि ऑल स्कूल पेरेन्ट्स एशोशियशन से प्रेरित होकर अन्य सामाजिक संगठनों को भी ऐसे पेरेन्ट्स का सम्मान करना चाहिए। जिनकी वजह से बाकी पेरेन्ट्स भी लाभान्वित हुए है।
सामाजिक कार्यकर्ता विपिन त्यागी ने कहा कि पेरेन्ट्स सम्मान समारोह वास्तव में अपने आप में एक नई पहल है। जहां सम्मान समारोह से उन पेरेन्ट्स का हौसला बढेगा जो पहले से लड़ते आये है। वही आगे लड़ने वाले पेरेन्ट्स के मन मे भी हिम्मत बनेगी कि वो अकेले नहीं हैं, एक एशोशियशन उनके पीछे खड़ी है।
खंड शिक्षा अधिकारी पवन भाटी ने आरटीई 2009 पर के बारे में बताया कि सरकार ने गरीब के बच्चों को अच्छी शिक्षा के लिए कानून बनाया है। जिसका पूर्व में उतना लाभ नहीं मिल रहा था।जितना कि अब मिल रहा है।उन्होंने कहा कि अभी भी जागरूक पेरेन्ट्स को इसे अभियान बनाकर गरीबो के बच्चों के अधिक से अधिक दाखिले कराने चाहिए जिससे कि सरकार की योजना का उन लोगों को लाभ मिले जोकि इसके वास्तव में हकदार है।
एबीसीएल के डायरेक्टर मिराज चिश्ती ने कहा कि उत्तर-प्रदेश में स्वविततोषित स्वतंत्र विद्यालय शुल्क निर्धारण अधिनियम 2018 बनना केवल एक पड़ाव मात्र है।अभी और लड़ाई बाकी है। मुझे पूरी उम्मीद है इसमे जीत पेरेन्ट्स की ही होगी बस जरूरत है। पेरेन्ट्स को एक साथ मिलकर लड़ने की अकेल-अकेले लड़ेंगे तो बिखरे रहेंगे एक साथ लड़ेंगे तो मजबूती मिलेगी।
ऑल स्कूल पेरेन्ट्स अध्यक्ष शिवानी जैन ने कहा कि हमारी एशोशियशन का गठन ही बच्चों की पढ़ाई ओर सुरक्षा के लिए तथा पेरेन्ट्स को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करने के लिए हुआ है। उसी कड़ी में आज के कार्यक्रम का आयोजन किया गया। ऐसे पेरेन्ट्स को सम्मानित करने के ओर कार्यक्रम भी किए जाएंगे।
दिल्ली पब्लिक स्कूल सिदार्थविहार से नितिन शर्मा, दिल्ली पब्लिक स्कूल अहिंसा खण्ड से अजय मित्तल, दिल्ली पब्लिक स्कूल शक्तिखण्ड से भूपेंद्र, केम्ब्रिज स्कूल इंदिरापुरम से गोपाल, जीडी गोयंका स्कूल राजनगर एक्सट्रेन्शन से निधि दत्ता, जीडी गोयंका स्कूल से मनीषा कैन, डीएलएफ स्कूल राजनेद्र नगर से राहुल जैन, प्रेसिडियम स्कूल इंदिरापुरम से शिल्पी सिंघल, चिल्ड्रन एकेडमी से सुनीता शर्मा, सेंट टैरेसा स्कूल इंदिरापुरम से पुनीत चौहान, उत्तम फॉर गर्ल्स स्कूल शास्त्रीनगर से रोहित चौधरी, सिल्वर लाईन प्रेस्टिज स्कूल से अतुल वशिष्ठ, सेंट मैरी स्कूल से विशाल नागर का सम्मान किया गया।
ऐसे पेरेन्ट्स अनिल सागर का भी सम्मान किया गया जिन्होंने उत्तर-प्रदेश सरकार से मिलने वाली एनओसी की शर्त पर दलितों के लिए निर्धारित फ़ीस पर पढ़ाने के लिए संघर्ष किया और वो आज भी एनओसी की शर्त के अनुसार ही फ़ीस जमा कर अपने बच्चों को पढ़ा रहे है।
कार्यक्रम में शिक्षा से शिखर तक एजीओ से रेखा रावत,सार्थक पहल से रचना साही व फ़्यूचर ऑफ़ फ्रंट के अध्यक्ष सचिन सिद्धार्थ को भी सम्मानित किया गया। कार्यक्रम का संचालन एशोशियशन के महासचिव सचिन सोनी ने किया।
प्रदेश में विद्यालय शुल्क नियमक कमेटी बनाने के लिए हस्ताक्षर अभियान का भी आज ही शुभारंभ किया गया। सभी उपस्थित लोगो ने हस्ताक्षर किए अब इस अभियान के तहत शहर के विभिन्न हिस्सों में हस्ताक्षर कराकर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी को भेजा जाएगा।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

About The Author

हर ख़बर पर पैनी नज़र

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *